With effective from 11 August 2020, the duration of each training programme should be minimum 4 weeks

FROM  CHAIRMAN

अध्यक्ष की कलम से

डॉ. जी. आर. चिंताला

अध्यक्ष, नाबार्ड

उद्यम संबंधी आवश्यक कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने की जरूरत को ध्यान में रखते हुए 31 मार्च 2018 की स्थिति के अनुसार रु.121.42 करोड़ की अनुदान सहायता के साथ नाबार्ड ने 32,520 ग्रामीण उद्यमिता विकास कार्यक्रमों/ कौशल विकास कार्यक्रमों के माध्यम से 8.37 लाख से अधिक बेरोजगार ग्रामीण युवकों को प्रशिक्षण सहायता प्रदान की.

Read More

कृषीतर क्षेत्र के लिए हमारे प्रयास

हमारा मिशन है “ग्रामीण जनता के लिए आजीविका और रोजगार के अवसर निर्माण करने के लिए कृषीतर क्षेत्र हेतु उत्पाद, प्रणालियां और नीतियां तैयार करना”

पिछले तीन दशकों से नाबार्ड ने ग्रामीण कृषीतर क्षेत्र के विकास के लिए कर्इ पुनर्वित्त और संवर्धनात्मक योजनाएं तैयार की हैं और आधार स्तरीय आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए उनका विस्तार करने और उन्हें परिष्कृत करने के सतत प्रयास किए जा रहे हैं. इस क्षेत्र के लिए बेहतर ऋण प्रवाह, वंचित समूह को ऋण प्रदान करना और ग्रामीण क्षेत्रों के लघु, कुटीर और ग्रामोद्योगों, हथकरघा, हस्तशिल्प और अन्य के लिए लिंकेज सुनिश्चित करने पर बल दिया गया है.

Read More




Our role in microfinance initiatives in the country:

We have continued with our role as the facilitator and mentor of microfinance initiatives in the country. The overall vision is to facilitate sustained access to financial services for the unreached poor in rural areas through various microfinance innovations in a cost effective and sustainable manner.

Read More



नाबार्ड के प्रशिक्षण संस्थान

नाबार्ड के अपने स्टाफ के अलावा देशभर की और विश्व के अन्य हिस्सों की ग्रामीण वित्तीय संस्थाओं की क्षमता निर्माण आवश्यकताओं को लखनऊ, मंगलूर और बोलपुर स्थित 4 प्रशिक्षण संस्थाओं के माध्यम से पूरा किया जाता है.